biography

नरेंद्र मोदी की जीवनी - narendra modi biography in hindi

narendra-modi-2112081_640.jpg

नरेंद्र मोदी जी ऐसी शख्सियत हैं, जो देश-विदेश में हर जगह मशहूर हैं। मोदी जी हमारे देश के 15वें प्रधानमंत्री के रूप में कार्यरत हैं। 2014 के आम चुनाव में और फिर 2019 में मोदी जी ने भारतीय जनता पार्टी के साथ मिलकर ऐतिहासिक जीत हासिल की। मानो पूरे देश में मोदी लहर आ गई हो, अधिकांश भारतीयों को मोदी जी पर पूरा भरोसा है कि वह उन्हें एक उज्जवल भविष्य देंगे। आजादी के बाद वह ऐसी जीत हासिल करने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री बने। मोदी जी लगातार दूसरी बार पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में आए हैं। प्रधानमंत्री बनने से पहले उन्होंने भारत के विकास के लिए कई महत्वपूर्ण कार्य किए। वैसे तो मोदी जी भी कई विवादों में घिरे पाए गए हैं, लेकिन उनकी नीतियों की हमेशा तारीफ की जाती रही है। मोदी जी ने अपने जीवन में कौन से महत्वपूर्ण कार्य किए हैं और उनका जीवन अब तक कैसा रहा है, इन सभी बातों को हम इस लेख के माध्यम से आप तक पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं।

नरेन्द्र मोदी का जीवन परिचय संक्षेप में 

क्रमांक परिचय बिंदु परिचय 
1 पूरा नाम नरेंद्र दामोदरदास मोदी
2 अन्य नाम मोदी जी, नमो
3 पेशा  राजनेता
4 राजनीतिक पार्टी भारतीय जनता पार्टी
5 जन्म तिथि 17 सितंबर, 1950
6 उम्र  68 साल
7 जन्म स्थान वडनगर, बॉम्बे स्टेट (वर्तमान में गुजरात), भारत
8 राष्ट्रीयता  भारतीय
9 गृहनगर  वडनगर, गुजरात, भारत
10 धर्म  हिन्दू
11 जाति  मोध घांची (ओबीसी)
12 ब्लड ग्रुप A+
13 पता  7 रेस कोर्स रोड, नई दिल्ली
14 वैवाहिक स्थिति विवाहित
15 शैक्षणिक योग्यता पोलिटिकल साइंस में बीए एवं एमए
16 राशि  कन्या
17 कद  5 फुट 7 इंच
18 वजन  75 किलोग्राम
19 आंखों का रंग काला
20 बालों का रंग सफ़ेद
21 भारत के प्रधानमंत्री के रूप में वेतन 1 लाख 60 हजार रूपये प्रति माह और साथ ही अन्य भत्ता
22 नेट वर्थ 2.28 करोड़ रूपये
23 कार संग्रह इनके नाम पर कोई कार रजिस्टर नहीं है

नरेंद्र मोदी जी का शुरूआती जीवन - Early Life of Narendra Modi

नरेंद्र मोदी जी का जन्म गुजरात राज्य के मेहसाना जिले के एक छोटे से शहर वडनगर में हुआ था। जब उनका जन्म हुआ था तब वह बॉम्बे में था , लेकिन अब यह गुजरात में स्थित है। नरेंद्र मोदी के परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी, उनके पिता एक गली के व्यापारी थे, जिन्होंने अपने परिवार का भरण पोषण करने के लिए बहुत संघर्ष किया था। मोदी जी की मां गृहिणी हैं। मोदी जी बचपन में अपने परिवार का भरण पोषण करने के लिए अपने भाइयों के साथ रेलवे स्टेशन और फिर बस टर्मिनल में चाय बेचते थे। मोदी जी ने अपने बचपन के दिनों में कई कठिनाइयों और बाधाओं का सामना किया था, लेकिन अपने चरित्र और साहस के बल पर उन्होंने सभी चुनौतियों को अवसरों में बदल दिया। इस तरह उनका शुरुआती जीवन काफी संघर्षपूर्ण रहा।

नरेंद्र मोदी जी का पारिवारिक परिचय -Narendra Modi's family introduction

1 पिता का नाम स्वर्गीय श्री दामोदर दास मूलचंद मोदी
2 माता का नाम  हीरा बेन
3 भाइयों के नाम
सोम मोदी, अमृत मोदी, प्रहलाद मोदी, पंकज मोदी,
4 बहन का नाम
वसंती बेन हसमुख लाल मोदी
5 पत्नी का नाम
जशोदा बेन चिमनलाल मोदी
6 बच्चे
नहीं है

नरेंद्र मोदी जी के परिवार, आयु, जाति - Narendra Modi's family, age, caste

मोदी जी का परिवार मोध-घांची-तेली समुदाय से है, जो भारत सरकार द्वारा अन्य पिछड़ा वर्ग की श्रेणी में आता है। नरेंद्र मोदी जी अपने माता-पिता की तीसरी संतान हैं। मोदी के बड़े भाई सोम भाई मोदी वर्तमान में 76  वर्ष के हैं, वे स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी रह चुके हैं। उनके दूसरे बड़े भाई अमृत मोदी मशीन ऑपरेटर हैं, जिनकी उम्र 73 साल है। इसके बाद तीसरे नंबर पे  नरेंद्र मोदी जी है, जिनकी बर्तमान में उम्र 70 वर्ष है। इसके बाद मोदी जी के 2 छोटे भाई हैं, एक प्रहलाद मोदी जो 63 साल के हैं, अहमदाबाद में एक दुकान चलाते हैं, और दूसरे पंकज मोदी, जो गांधीनगर में सूचना विभाग में क्लर्क के पद पर कार्यरत हैं।

नरेंद्र मोदी जी का विवाह - 

घांची समुदाय की परंपराओं के अनुसार मोदी जी का विवाह 18 वर्ष की आयु में 1968 में जशोदा बेन चिमनलाल के साथ हुआ था। रिपोर्ट्स के अनुसार कहा गया है कि मोदी जी का अपनी पत्नी से तलाक नहीं हुआ था, लेकिन फिर भी दोनों एक दूसरे से बिछड़ गये। मोदी जी की पत्नी जशोदा बेन गुजरात के एक सरकारी स्कूल में शिक्षिका के तौर पर काम करती थीं, जो अब सेवानिवृत्त हो चुकी हैं। हर कोई जानना चाहता है कि नरेंद्र मोदी जी के कितने बच्चे हैं, आपको बता दें कि मोदी के कोई संतान नहीं है। शादी के कुछ दिनों बाद वे अलग हो गए। नरेंद्र मोदी जी का घर कहां है, इसका जवाब है, कि अब उनका आवास दिल्ली में है। जिनका नाम पंचवटी है, बैसे तो नरेंद्र मोदी गुजरात के रहने वाले हैं।

नरेंद्र मोदी की शिक्षा और प्रारंभिक करियर - Education and early career of Narendra Modi

नरेंद्र मोदी जी की प्रारंभिक शिक्षा वडनगर के स्थानीय स्कूल से पूरी हुई, उन्होंने 1967 तक अपनी उच्च माध्यमिक शिक्षा पूरी की। फिर उन्होंने अपने परिवार की खराब आर्थिक स्थिति के कारण अपना घर छोड़ दिया, और फिर उन्होंने अलग-अलग चीजों का पता लगाने के लिए पूरे भारत की यात्रा की। इसके लिए मोदी जी ने उत्तर भारत में स्थित ऋषिकेश और हिमालय जैसे स्थानों का भ्रमण किया। वह 2 साल उत्तर पूर्व के कुछ हिस्सों का दौरा करने के बाद घर लौटे। इस तरह स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद मोदी ने कुछ सालों तक अपनी आगे की पढ़ाई नहीं की। फिर मोदी जी ने अपनी उच्च शिक्षा के लिए 1978 में भारत में दिल्ली विश्वविद्यालय और फिर अहमदाबाद में गुजरात विश्वविद्यालय में दाखिला लिया। वहां उन्होंने राजनीति विज्ञान में क्रमशः स्नातक और स्नातकोत्तर किया। एक बार मोदी जी के एक शिक्षक ने बताया कि मोदी जी पढ़ाई में सामान्य थे, लेकिन उनका ज्यादातर समय पुस्तकालय में ही बीतता था। उनकी वाद-विवाद की कला उत्कृष्ट थी।

नरेंद्र मोदी जी के राजनीतिक करियर की शुरुआत

  • अपने कॉलेज की पढ़ाई के बाद, मोदी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में शामिल हो गए और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस), एक हिंदू राष्ट्रवादी राजनीतिक दल में शामिल होने के लिए पूर्णकालिक प्रचारक के रूप में अहमदाबाद चले गए।
  • 1975-77 में तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी द्वारा लगाए गए राष्ट्रीय आपातकाल के दौरान, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। जिसके कारण मोदी जी को उस समय भूमिगत होना पड़ा और गिरफ्तारी से बचने के लिए भेष बदलकर यात्रा किया करते थे।
  • मोदी जी आपातकाल के खिलाफ बहुत सक्रिय थे। उस समय सरकार का विरोध करने के लिए उन्होंने पर्चे बांटने समेत कई हथकंडे अपनाए। यहाँ उन्होंने प्रबंधकीय, संगठनात्मक और नेतृत्व कौशल को सामने लाया।
  • इसके बाद नरेंद्र मोदी राजनीतिक कार्यकर्ता के तौर पर राजनीति में आए। उन्हें आरएसएस में लिखाई का काम सौंपा गया था।
  • 1985 में मोदी जी ने आरएसएस के जरिए भारतीय जनता पार्टी यानी बीजेपी पार्टी में शामिल होने का सोचा। 1987 में, नरेंद्र मोदी पूरी तरह से भाजपा में शामिल हो गए, और पहली बार उन्होंने अहमदाबाद नगरपालिका चुनाव में भाजपा के अभियान को व्यवस्थित करने में मदद की, जिसमें भाजपा की जीत हुई।

नरेंद्र मोदी जी का राजनीतिक करियर - Political career of Narendra Modi ji

1987 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होने के बाद, नरेंद्र मोदी रैंकों के माध्यम से तेजी से बढ़े, क्योंकि वे एक बहुत ही बुद्धिमान व्यक्ति थे। उन्होंने व्यवसायों, छोटी सरकार और हिंदू मूल्यों के निजीकरण को बढ़ावा दिया। उसी वर्ष, उन्हें पार्टी की गुजरात शाखा के महासचिव के रूप में चुना गया। 1990 में लालकृष्ण आडवाणी द्वारा अयोध्या रथ यात्रा आयोजित करने में मदद करने के बाद मोदी की क्षमताओं को पार्टी के भीतर पहचाना गया, जो उनका पहला राष्ट्रीय स्तर का राजनीतिक कार्य बन गया।

उसके बाद 1991-92 में मुरली मनोहर जोशी की एकता यात्रा हुई। 1990 में गुजरात विधानसभा चुनाव के बाद मोदी ने गुजरात में भाजपा की उपस्थिति को मजबूत करने में एक प्रमुख भूमिका निभाई। 1995 के चुनावों में, पार्टी ने 121 सीटें जीतीं, जिसके कारण पहली बार गुजरात में भाजपा की सरकार बनी। पार्टी थोड़े समय के लिए सत्ता में रही, जो सितंबर 1996 में समाप्त हो गई।

1995 में, मोदी हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में गतिविधियों को संभालने के लिए भाजपा के राष्ट्रीय सचिव चुने गए, और वे नई दिल्ली में स्थानांतरित हो गए।
1998 में, जब भाजपा में आंतरिक नेतृत्व का विवाद चल रहा था, मोदी जी ने उस दौरान भाजपा की चुनावी जीत का मार्ग प्रशस्त किया, जिसने विवादों को सुलझाने में सफलतापूर्वक मदद की।

इसके बाद उसी वर्ष मोदी जी को महासचिव नियुक्त किया गया। वे 2001 तक इस पद पर कार्यरत थे। उस दौरान विभिन्न राज्यों में पार्टी संगठन को वापस लाने की जिम्मेदारी को सफलतापूर्वक निभाने का श्रेय मोदी जी को जाता है।

गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी - Narendra Modi as the Chief Minister of Gujarat

नरेंद्र मोदी ने 2001 में पहली बार विधान सभा का चुनाव लड़ा और राजकोट की 2 सीटों में से एक पर जीत हासिल की। जिसके बाद वे गुजरात के मुख्यमंत्री बने। दरअसल उस समय केशुभाई पटेल की तबीयत खराब हो गई थी और दूसरी ओर राज्य उपचुनाव में बीजेपी कुछ विधानसभा सीटों पर हार गई थी। जिसके बाद केशुभाई पटेल के हाथों से भाजपा का राष्ट्रीय नेतृत्व मोदी जी को सौंप दिया गया और उन्हें गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में प्रभार दिया गया।

7 अक्टूबर 2001 को मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। इसके बाद उनकी एक के बाद एक जीत पक्की हो गई। सबसे पहले उन्होंने 24 फरवरी 2002 को राजकोट के 'द्वितीय निर्वाचन क्षेत्र' के लिए उपचुनाव जीता। उन्होंने कांग्रेस के अश्विन मेहता को 14,728 मतों से हराया।

2002 के गुजरात दंगों में नरेंद्र मोदी को मिली थी 'क्लीन चिट'

नरेंद्र मोदी के उपचुनाव जीतने के तीन दिन बाद, गुजरात में सांप्रदायिक हिंसा की एक बड़ी घटना हुई, जिसके परिणामस्वरूप 58 लोग मारे गए। क्योंकि उस समय गोधरा के पास सैकड़ों यात्रियों से भरी एक ट्रेन में आग लगा दी गई थी, जिसमें ज्यादातर हिंदू यात्री थे। यह घटना इस घटना के कारण मुसलमानों के विरोध में हुई। जिससे यह पूरे गुजरात में फैल गया। और गुजरात में सांप्रदायिक दंगे शुरू हो गए। इस दंगे में करीब 900 से 2,000 लोगों की जान चली गई थी।

उस दौरान राज्य में मोदी जी की सरकार थी, जिसके चलते उन पर यह दंगा फैलाने का आरोप लगा था। मोदी पर लगे आरोपों के चलते उन पर हर तरफ से दबाव बढ़ गया था, जिसके चलते उन्हें अपने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था। इसीलिए उस समय गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में मोदी का कार्यकाल कुछ महीनों का ही था। फिर 2009 में सुप्रीम कोर्ट ने इससे जुड़ी एक टीम बनाई, जो इस मामले की जांच के लिए बनी थी। इस टीम का नाम SIT था। इस टीम ने गहन जांच के बाद 2010 में सुप्रीम कोर्ट में एक रिपोर्ट पेश की, जिसमें मोदी जी को इस मामले में हरी झंडी दे दी गई। हालांकि 2013 में जांच टीम पर मोदी के खिलाफ मिले सबूतों को छिपाने का आरोप लगा था।

दूसरी बार मुख्यमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी - Narendra Modi as Chief Minister for the second time

जब मोदी जी को कोर्ट से क्लीन चिट मिली तो उन्हें फिर से गुजरात का मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया। मोदी जी के दोबारा गुजरात के मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने राज्य के विकास के लिए काम करना शुरू किया। इससे राज्य में कई बदलाव भी आए। उन्होंने गुजरात राज्य में प्रौद्योगिकी और वित्तीय पार्कों का निर्माण किया। 2007 में, मोदी जी ने वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन में गुजरात में 6,600 अरब रुपये के रियल एस्टेट निवेश सौदों पर हस्ताक्षर किए। इसके बाद इस साल जुलाई में नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री के रूप में लगातार 2,063 दिन पूरे किए थे, जिसके कारण उन्होंने सबसे अधिक दिनों तक गुजरात के मुख्यमंत्री पद पर बने रहने का रिकॉर्ड अपने नाम किया।

तीसरी बार मुख्यमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी - Narendra Modi as Chief Minister for the Third time

मोदी जी का यह रिकॉर्ड आगे भी जारी रहा, 2007 के गुजरात विधानसभा चुनाव में मोदी जी ने फिर जीत हासिल की और वे तीसरी बार वहां के मुख्यमंत्री बने। इस कार्यकाल के दौरान मोदी जी ने राज्य में आर्थिक विकास पर अधिक ध्यान दिया, और निजीकरण पर भी ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने भारत को वैश्विक विनिर्माण उपरिकेंद्र के रूप में आकार देने के लिए अपनी नीतियों को प्रोत्साहित किया। मुख्यमंत्री के रूप में मोदी जी के इस कार्यकाल के दौरान गुजरात में कृषि विकास दर में काफी वृद्धि हुई थी। इसकी वृद्धि इतनी अधिक थी कि यह भारत के अन्य राज्यों की तुलना में एक बहुत ही विकासशील राज्य बन गया। मोदी जी ने ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली की आपूर्ति की व्यवस्था की, जिससे कृषि को बढ़ाने में मदद मिली। 2011 से 2012 के बीच मोदी जी ने गुजरात में सद्भावना/गुडविल मिशन की शुरुआत की। जिसे राज्य में मुस्लिम समुदाय तक पहुंचने के लिए शुरू किया गया था। मोदी जी ने कई उपवास भी किए और उनका मानना था कि इस कदम से गुजरात की शांति, एकता और सद्भावना का माहौल और मजबूत होगा।

चौथी बार मुख्यमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी - Narendra Modi as Chief Minister for the Fourth time

2012 में, मुख्यमंत्री के रूप में मोदी का कार्यकाल तीसरी बार समाप्त हुआ। और इस साल फिर से गुजरात में विधानसभा चुनाव हुए। और हर साल की तरह इस साल भी मोदी जी ने जीत हासिल की और उन्हें चौथी बार गुजरात के मुख्यमंत्री का पद संभालने के लिए नियुक्त किया।

इसलिए मोदी जी को राज्य में समृद्धि और विकास लाने का श्रेय दिया गया। इसी के चलते मोदी जी ने उस दौरान गुजरात सरकार के मुखिया के रूप में एक सक्षम शासक के रूप में अपनी पहचान बनाई थी। उन्हें राज्य की अर्थव्यवस्था के तेजी से विकास का श्रेय भी दिया जाता है। इसके अलावा मोदी जी को उनकी और उनकी पार्टी के चुनावी प्रदर्शन में सबसे आगे रखा गया। 

क्योंकि वे न केवल पार्टी के सबसे प्रतिभाशाली नेता थे, बल्कि प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में भी उनमें प्रतिभा थी। हालांकि, कुछ लोगों का मानना था कि लोगों के विकास, शिक्षा, पोषण और गरीबी उन्मूलन में राज्य बहुत अच्छे रैंक पर नहीं है। लेकिन फिर भी लोग उन्हें उनके कार्यों और उनकी नीतियों के कारण पसंद करते थे।

2014 के आम चुनाव में नरेंद्र मोदी जी की भूमिका

नरेंद्र मोदी के चौथी बार गुजरात के मुख्यमंत्री बनने के एक साल बाद जून में उन्हें भारतीय जनता पार्टी का अध्यक्ष बनाया गया। और इस प्रकार वह 2014 के आम चुनाव में प्रधान मंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में दिखाई दिए। जिसके कारण मोदी जी को गुजरात के मुख्यमंत्री का पद छोड़ना पड़ा। हालांकि उस दौरान लाल कृष्ण आडवाणी समेत भाजपा के कुछ सदस्यों ने इसका विरोध किया था। लेकिन फिर भी मोदी जी ने उस दौरान वाराणसी और वडोदरा दोनों सीटों पर जीत हासिल की थी। और आने वाले आम चुनाव में उन्होंने प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर अपनी जगह बनाई थी।

इस चुनाव के दौरान मोदी जी ने पूरे देश में करीब 437 चुनावी रैलियां कीं, इन रैलियों में मोदी जी ने कई मुद्दों को जनता के सामने रखा, जिससे लोगों ने प्रभावित होकर बीजेपी को वोट दिया। फिर 2014 के आम चुनाव में बीजेपी की जीत ऐतिहासिक जीत बन गई। इस साल बीजेपी ने 534 में से 282 सीटों पर पूर्ण बहुमत के आधार पर जीत हासिल की थी। और इस तरह नरेंद्र मोदी जी भारत के प्रधानमंत्री के रूप में एक नया चेहरा बन गए।

नरेंद्र मोदी जी प्रधानमंत्री के रूप में - Narendra Modi as Prime Minister

नरेंद्र मोदी जी पहली बार प्रधानमंत्री के रूप में

प्रधानमंत्री का पद जीतने के बाद 26 मई 2014 को नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली और इस तरह वे देश के 14वें प्रधानमंत्री बने। नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद लोगों को उनसे काफी उम्मीदें लगने लगी थीं।  प्रधान मंत्री के रूप में, मोदी जी ने भारत में कई विकास कार्य किए। उन्होंने विदेशी व्यवसायों को भारत में निवेश करने के लिए प्रोत्साहित किया। मोदी जी ने विभिन्न नियम, परमिट और निरीक्षण लागू किए, ताकि व्यापार अधिक और आसानी से बढ़ सके। मोदी जी ने समाज कल्याण कार्यक्रमों पर कम खर्च किया, और स्वास्थ्य सेवा पर अधिक ध्यान दिया। इसके अलावा मोदी जी ने हिंदुत्व, रक्षा, पर्यावरण और शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए भी कई काम किए।

नरेंद्र मोदी जी दूसरी बार प्रधानमंत्री के रूप में

2019 के लोकसभा चुनाव में मोदी जी की शान फिर से जीत हुई है। मोदी क्रांति ने अन्य दलों को बहुत पीछे छोड़ दिया। नरेंद्र मोदी जी को पूर्ण बहुमत के साथ 303 सीटें प्राप्त कर अभूतपूर्व जीत हासिल हुई। भारत के इतिहास में यह पहली बार है कि किसी नेता ने लगातार दूसरी बार पूर्ण बहुमत के साथ इतनी बड़ी जीत हासिल की है। भारत की जनता ने इस बार अपना खुद का प्रधानमंत्री चुना है और सभी ने मोदी जी पर पूरा भरोसा दिखाया है. मोदी लहर कहें या मोदी क्रांति, इस बार भारत के ये लोकसभा चुनाव पूरी दुनिया में छाए रहे।

चारों तरफ मोदी की तालियां बज रही थीं. नरेंद्र मोदी जी के पिछले पांच साल के काम से जनता काफी खुश थी, जिसके चलते जनता उन्हें एक और मौका देना चाहती थी. उन्नत भारत के लिए लोगों को मोदी जी से बहुत उम्मीदें हैं। मोदी जी ने भी कहा "सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास = विजयी भारत"। मोदी जी ने इस जीत को बीजेपी कार्यकर्ताओं की मेहनत का फल बताया। मोदी जी प्रधानमंत्री के रूप में अगली पारी की शुरुआत कर रहे हैं, हमें उम्मीद है कि पिछली बार की तरह वह भी पूरे देशवासियों की उम्मीदों पर खरे उतरेंगे और भारत को नई ऊंचाइयों पर ले जाएंगे। 



Comments


Leave a Reply

Scroll to Top