full-form

एसटीडी का फुल फॉर्म - STD FULL FORM IN HINDI

phone-3594206_640.jpg

एसटीडी क्या होती है । और उसकी फुल फॉर्म क्या होती है और यह कितने तरह का होता है। इसके बारे में आज हम इस आर्टिकल में बात करेंगे यह दो प्रकार का होता है - 

  • Subscriber Trunk Dialing
  • Sexually Transmitted Diseases

STD Full Form in Hindi - एसटीडी क्या होता है

एसटीडी की प्रणाली सन 1958 से जोड़ा गया था, जिसने ग्राहकों को अपनी लंबी दूरी की कॉल डायल करने की अनुमति दी थी। इससे US  में डायरेक्ट डिस्टेंस डायलिंग (DDD)कहा जाता है। एसटीडी में हर जगह का एसटीडी कोड (STD Code)निर्धारित होता है ।इन कोड को फोन करने से पहले ग्राहक द्वारा डायल किया जाता है ।एसटीडी की मदद से आप कहीं भी कॉल कर सकते हैं । लेकिन आजकल एसटीडी का उपयोग बहुत कम होता है।

आजकल एसटीडी (STD) का उपयोग गांव देहात में होता है । क्योंकि आजकल लोग एसटीडी से ज्यादा टेस्ट (Text) करना पसंद करते हैं । एसटीडी का उपयोग पुराने जमाने के टेलीफोन की जगह होता था। एसटीडी से कॉल करने के लिए हर जगह का तीन अंक का कोड को निर्धारित किया गया था। किसी व्यक्ति को अगर एक स्थान से दूसरे स्थान पर कॉल करनी होती थी, तो उसे पहले उस जगह का कोड डालना पड़ता था। तब उसका कॉल सही जगह लगता था उस टाइम के कुछ शहरो के कोड -

  • Allahabad - 532
  • New Delhi - 011
  • Ghaziabad - 120
  • Gurgaon   - 124

एसटीडी सन 1979 में पूरा हो गई।

Sexually Transmitted Diseases (STD) - यौन संचारित रोगों किया होता है 

std desies

Sexually Transmitted Diseases को हिंदी में यौन संचारित रोगों किया होता है। यह रोग संपर्क के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में पहुंचता है। एसटीडी रोग योनि संबंधित एक रोग है। जो कि किसी भी महिला या पुरुष को आराम से हो सकता है। अगर वह असुरक्षित योनि संभोग करते हैं या फिर मुखमैथुन से भी एक दूसरे के संपर्क में आने से वह एसटीडी रूप का शिकार हो सकता है। एसटीडी बीमारी को वीनर रोग नाम से भी जाना जाता है। यह बहुत खतरनाक बीमारी है। एसटीडी के बहुत सारे लक्षण होते हैं। इसीलिए चिकित्सक लक्षण को जानने के बाद उपचार करते हैं। चलिए अब आपको एसटीडी के लक्षण के बारे में बताता हूं।
एसटीडी के लक्षण महिलाओं में अलग होते हैं। और पुरुषों में थोड़े अलग होते हैं। और इसके लक्षण और भी ज्यादा होते हैं। लेकिन कुछ मुख्य लक्षण आपको बताने जा रहा हूं।

* एसटीडी के लक्षण महिलाओं में -

  1. योनि के आसपास खुजली होना
  2. योनि से आसामन रूप से खून निकलना
  3. संभोग के दौरान दर्द या फिर तकलीफ होने

* पुरुषों में एसिडिटी के लक्षण -

  1. संभोग के दौरान दर्द या फिर तकलीफ होने
  2. अंडकोष में सूजन आना
  3. लिंग से सामान्य रूप से खून निकलना

हमारे आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट में जरूर बताएं और हमारा काम है, आपके पास हर जानकारी को आसान  भाषा में पहुँचाना धन्यवाद।



Comments


Leave a Reply

Scroll to Top