Religious-stories ArunGovil Religious-stories Blog Improve Your Religious-stories Knowledge.

ram-mandir-1.jpg
Religious-stories

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र - SHRI RAM JANMABHOOMI TEERTH KSHETRA

मार्च में, 'राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र' ने राम मंदिर परिसर को 70 एकड़ से 107 एकड़ तक विस्तारित करने की योजना के तहत राम जन्मभूमि परिसर के पास 7285 वर्ग फुट जमीन खरीदी थी। शहर में भव्य मंदिर बना रहे ट्रस्ट ने 1373 रुपये प्रति वर्ग फुट की दर से 7285 वर्ग फुट जमीन खरीदने के लिए 1 करोड़ रुपये का भुगतान किया है।

14/06/2021 by योगेश शर्मा ArunGovil.net
sanatan_dharm.jpg
Religious-stories

सनातन धर्म क्या है - SANATAN DHARMA IN HINDI | ArunGovil.net

बहुत से लोग हिंदू धर्म को सनातन धर्म से अलग मानते हैं। उनका कहना है कि हिंदू नाम विदेशियों ने दिया था। पहले इसका नाम सनातन धर्म था। तो कुछ कहते हैं कि नहीं, पहले इसका नाम आर्य धर्म था।

10/06/2021 by योगेश शर्मा ArunGovil.net
bhagvat_geeta_in_hindi.jpg
Religious-stories

भगवत गीता हिंदी में - BHAGWAT GEETA IN HINDI

श्रीमद्भगवद गीता हिंदुओं के सबसे पवित्र ग्रंथों में से एक है। महाभारत के अनुसार, कुरुक्षेत्र युद्धभूमि में भगवान कृष्ण ने अर्जुन को गीता का संदेश सुनाया था। यह महाभारत के भीष्म पर्व के तहत दिया गया एक उपनिषद है।

10/06/2021 by योगेश शर्मा ArunGovil.net
marne_ke_baad_aatma.jpg
Religious-stories

मरने के बाद आत्मा कहां जाती है - MARNE KE BAAD ATMA KAHA JATI HAI

वेदों, स्मृतियों और पुराणों के अनुसार आत्मा की गति और किसी भी दुनिया में उसके आगमन का विवरण अलग-अलग दिया गया है। हाँ, हम पुराण सिद्धांत को जानेंगे, लेकिन पहले हम वैदिक सिद्धांत को भी संक्षेप में जान लें, जो गति के संदर्भ में है।

09/06/2021 by योगेश शर्मा ArunGovil.net
vat_savitri_vrat_katha.jpg
Religious-stories

वट सावित्री व्रत कथा - VAT SAVITRI VRAT KATHA | Arungovil.net

यमराज से अपने पति के जीवन को वापस लेने वाली देवी सावित्री भारतीय संस्कृति में दृढ़ संकल्प और साहस की प्रतीक हैं। यमराज के सामने खड़े होने का साहस करने वाली सावित्री की कथा भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग रही है।

09/06/2021 by योगेश शर्मा ArunGovil.net
haunted-castle-1802413_640.jpg
Religious-stories

क्या भूत होते हैं - What ghosts are there

कई लोगों ने भूतों के बारे में कई कहानियां सुनी होंगी, लेकिन भूतों को देखा किसने है? हालांकि कई लोग दावा करते हैं कि हमने भूतों को देखा है। हमने भूतों का सामना किया है। यह भी सुनने में आया है कि भूत किसी के शरीर में प्रवेश करता है, जिसे एक व्यक्ति कहा जाता है जो भूत से पीड़ित होता है। आइए आपको बताते हैं भूत के बारे में कुछ रोचक और हैरान करने वाले तथ्य।

18/02/2021 by योगेश शर्मा ArunGovil.net
jaharveer_image.png
Religious-stories

जाहरवीर बाबा की कथा - Jaharveer Baba ki Katha

जाहरवीर बाबा को 'जाहरवीर गोग राणा' के नाम से भी जाना जाता है। इन्हे राजस्थान का लोकदेवता भी माना जाता है। राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में गोगामेड़ी नाम का एक कस्वा है। जहां पर प्रत्येक वर्ष भादप्रद मास, शुक्लपक्ष की पंचमी और नवमी को जाहरवीर बाबा का मेला लगता है।

17/01/2021 by योगेश शर्मा ArunGovil.net
chandrma.jpg
Religious-stories

पूर्णिमा पर इन 5 बातों पर रखें विशेष ध्यान, सतर्क रहें

चंद्रमा का संबंध पृथ्वी के जल से है। जब पूर्णिमा आती है, तो समुद्र में एक ज्वार भाटा उठता है, क्योंकि चंद्रमा समुद्री जल को ऊपर की ओर खींचता है। मानव शरीर में लगभग 85 प्रतिशत पानी भी है।

17/01/2021 by योगेश शर्मा ArunGovil.net
shree_ram_image.png
Religious-stories

दण्डक वन में भगवान् श्री राम कहाँ पर रुके थे - Dandakvan Me Shree Ram Kaha Ruke The

चित्रकूट से निकलने के बाद श्रीराम घने जंगल में पहुंचे। दरअसल, यहीं उनका वनवास था। उस समय इस वन को दंडकारण्य कहा जाता था। उन्होंने अपने जीवन के 14 वर्ष इस जंगल में बिताए।

17/01/2021 by योगेश शर्मा ArunGovil.net
kartik-purnima.jpg
Religious-stories

कार्तिक पूर्णिमा की कथा - Kartik Purnima Vrat Katha In Hindi

तारकासुर नाम का एक राक्षस था। उनके तीन पुत्र थे- तारकक्ष, कमलाक्ष और विद्युन्माली भगवान शिव के बड़े पुत्र कार्तिकेय ने तारकासुर का वध किया।

28/03/2021 by योगेश शर्मा ArunGovil.net
ekadashi_vrat.png
Religious-stories

एकादशी व्रत की कथा - Ekadashi Vrat Katha In Hindi

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार, इस एकादशी का बहुत महत्व माना जाता है। आइए जानें इस एकादशी व्रत की पौराणिक गाथा एकादशी की कथा हिंदी भाषा में - EKADASHI VRAT KI KATHA IN HINDI | ArunGovil.net

28/03/2021 by योगेश शर्मा ArunGovil.net
tulsi_vivah.png
Religious-stories

जलंधर और शंखचूड़ की पौराणिक कथा देवउठनी एकादशी - ArunGovil Hindi

राजा दंभ के यहां एक पुत्र ने जन्म लिया। इस पुत्र का जन्म भगवान विष्णु के वरदान के फलस्वरूप हुआ। इस पुत्र का नाम शंखचूड़ रखा गया।

25/11/2020 by योगेश शर्मा ArunGovil.net

Scroll to Top