religious-stories

भगवत गीता हिंदी में - BHAGWAT GEETA IN HINDI

bhagvat_geeta_in_hindi.jpg

श्रीमद्भगवद गीता हिंदुओं के सबसे पवित्र ग्रंथों में से एक है। महाभारत के अनुसार, कुरुक्षेत्र युद्धभूमि में भगवान कृष्ण ने अर्जुन को गीता का संदेश सुनाया था। यह महाभारत के भीष्म पर्व के तहत दिया गया एक उपनिषद है। भगवद गीता में एकेश्वरवाद, कर्म योग, ज्ञान योग, भक्ति योग की बहुत खूबसूरती से चर्चा की गई है।

श्रीमद्भगवद्‌गीता की पृष्ठभूमि महाभारत का युद्ध है। जैसे एक आम आदमी अपने जीवन की समस्याओं से भ्रमित हो जाता है और जीवन की समस्याओं से लड़ने के बजाय उससे दूर भागने का मन बना लेता है, उसी तरह महाभारत के महान नायक अर्जुन को अपने सामने आने वाली समस्याओं से डर लगता था। धर्म से निराश होकर, अर्जुन की तरह, हम सभी कभी-कभी अनिश्चितता की स्थिति में निराश हो जाते हैं या अपनी समस्याओं से भाग जाते हैं।

जो ज्ञान भारत के ऋषियों ने गहन चिंतन के बाद आत्मसात किया, उन्होंने उसका नाम वेद रखा। इन्हीं वेदों का अंतिम भाग उपनिषद कहलाता है। मानव जीवन की विशेषता मनुष्य के पास बौद्धिक शक्ति है और उपनिषदों में निहित ज्ञान न केवल मानव बुद्धि की उच्चतम अवस्था है, बल्कि यह एक झलक भी देता है कि मनुष्य बुद्धि की सीमा से परे क्या अनुभव कर सकता है।

श्रीमद्भगवद् गीता वर्तमान में न केवल भारत में बल्कि विदेशों में भी धर्म से अधिक जीवन के प्रति अपने दार्शनिक दृष्टिकोण के लिए लोगों का ध्यान आकर्षित कर रही है। निष्काम कर्म की गीता का संदेश प्रबंधन गुरुओं को भी आकर्षित कर रहा है। यह दुनिया के सभी धर्मों की सबसे प्रसिद्ध किताबों में शामिल है। गीता प्रेस गोरखपुर जैसे प्रकाशन, जो बहुत कम कीमत पर धार्मिक साहित्य की पुस्तकें उपलब्ध कराते हैं, ने भी श्रीमद्भगवद गीता को अर्थ और भाष्य के साथ कई आकारों में प्रकाशित करके इसे आम जनता के लिए सुलभ बनाने में बहुत योगदान दिया है।

श्रीमद्भगवद् के कुछ अनमोल वचन - SOME BHAGVAT QUOTES IN HINDI

Quote 1: जो हुआ वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है वह अच्छा हो रहा है, जो होगा वो भी अच्छा ही होगा।

Quote 2: हे अर्जुन ! तुम्हारा क्या गया जो तुम रोते हो, तुम क्या लाए थे जो तुमने खो दिया, तुमने क्या पैदा किया था जो नष्ट हो गया, तुमने जो लिया यहीं से लिया, जो दिया यहीं पर दिया, जो आज तुम्हारा है, कल किसी और का होगा, क्योंकि परिवर्तन ही संसार का नियम है।

Quote 3: जीवन न तो भविष्य में है, न अतीत में है, जीवन तो बस इस पल में है।

Quote 4: जन्म लेने वाले के लिए मृत्यु उतनी ही निश्चित है, जितना कि मरने वाले के लिए जन्म लेना। इसलिए जो अपरिहार्य है, उस पर शोक नही करना चाहिए।

Quote 5: कोई भी व्यक्ति जो चाहे बन सकता है, यदि वह व्यक्ति एक विश्वास के साथ इच्छित वस्तु पर लगातार चिंतन करें।

Quote 6: मैं सभी प्राणियों को एकसमान रूप से देखता हूं, मेरे लिए ना कोई कम प्रिय है ना ही ज्यादा, लेकिन जो मनुष्य मेरी प्रेमपूर्वक आराधना करते है, वो मेरे भीतर रहते है और में उनके जीवन में आता हूं।

Quote 7: मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है, जैसा वह विश्वास करता है, वैसा वह बन जाता है।

Quote 8: फल की अभिलाषा छोड़कर कर्म करने वाला पुरुष ही अपने जीवन को सफल बनाता है।

Quote 9: हे अर्जुन ! क्रोध से भ्रम पैदा होता है, भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है, जब बुद्धि व्यग्र होती है, तब तर्क नष्ट हो जाता है, जब तर्क नष्ट होता है तब व्यक्ति का पतन हो जाता है।

Quote 10: मेरा तेरा, छोटा बड़ा, अपना पराया, मन से मिटा दो, फिर सब तुम्हारा है और तुम सबके हो।

Quote 11: सदैव संदेह करने वाले व्यक्ति के लिए प्रसन्नता न इस लोक में है और न ही परलोक में।

Quote 12: जो लोग मन को नियंत्रित नही करते है, उनके लिए वह शत्रु के समान काम करता है।

Quote 13: नरक के तीन द्वार होते है, वासना, क्रोध और लालच।

Quote 14: हे अर्जुन ! हम दोनों ने कई जन्म लिए है, मुझे याद है लेकिन तुम्हें नही।

Quote 15: हे अर्जुन ! जो कोई भी व्यक्ति जिस किसी भी देवता की पूजा विश्वास के साथ करने की इच्छा रखता है, में उस व्यक्ति का विश्वास उसी देवता में दृढ़ कर देता हूं।

Quote 16: हे अर्जुन ! मन अशांत है और इसे नियंत्रित करना कठिन है, लेकिन अभ्यास से इसे वश में किया जा सकता है।

Quote 17: वह व्यक्ति जो सभी इच्छाएं त्याग देता है और ‘में’ और ‘मेरा’ की लालसा और भावना से मुक्त हो जाता है, उसे अपार शांति की प्राप्ति होती है।

Quote 18: धरती पर जिस प्रकार मौसम में बदलाव आता है, उसी प्रकार जीवन में भी सुख-दुख आता जाता रहता है।

Quote 19: इतिहास कहता है कि कल सुख था, विज्ञान कहता है कि कल सुख होगा, लेकिन धर्म कहता है, अगर मन सच्चा और दिल अच्छा हो तो हर रोज सुख होगा।

Quote 20: जो होने वाला है वो होकर ही रहता है, और जो नहीं होने वाला वह कभी नहीं होता, ऐसा निश्चय जिनकी बुद्धि में होता है, उन्हें चिंता कभी नही सताती है।

Quote 21: समय से पहले और भाग्य से अधिक कभी किसी को कुछ नही मिलता है।

Quote 22: जो व्यवहार आपको दूसरों से पसंद ना हो, ऐसा व्यवहार आप दूसरों के साथ भी ना करें।

Quote 23: जब जब इस धरती पर पाप, अहंकार और अधर्म बढ़ेगा, तो उसका विनाश कर पुन: धर्म की स्थापना करने हेतु, में अवश्य अवतार लेता रहूंगा।

Quote 24: हे अर्जुन ! में भूतकाल, वर्तमान और भविष्यकाल के सभी जीवों को जानता हूं, लेकिन वास्तविकता में कोई मुझे नही जानता है।

Quote 25: केवल व्यक्ति का मन ही किसी का मित्र और शत्रु होता है।

Quote 26: वह व्यक्ति जो अपनी मृत्यु के समय मुझे याद करते हुए अपना शरीर त्यागता है, वह मेरे धाम को प्राप्त होता है और इसमें कोई शंशय नही है।

Quote 27: अच्छे कर्म करने के बावजूद भी लोग केवल आपकी बुराइयाँ ही याद रखेंगे, इसलिए लोग क्या कहते है इस पर ध्यान मत दो, तुम अपना काम करते रहो।

Quote 28: मनुष्य को परिणाम की चिंता किए बिना लोभ- लालच और निस्वार्थ और निष्पक्ष होकर अपने कर्तव्यों का पालन करना चाहिए।

Quote 29: मानव कल्याण ही भगवत गीता का प्रमुख उद्देश्य है, इसलिए मनुष्य को अपने कर्तव्यों का पालन करते समय मानव कल्याण को प्राथमिकता देना चाहिए।

Quote 30: मनुष्य को जीवन की चुनौतियों से भागना नहीं चाहिए और न ही भाग्य और ईश्वर की इच्छा जैसे बहानों का प्रयोग करना चाहिए।

Quote 31: परिवर्तन ही संसार का नियम है, एक पल में हम करोड़ों के मालिक हो जाते है और दुसरे पल ही हमें लगता लगता है की हमारे आप कुछ भी नही है।

Quote 32: अपने आपको भगवान के प्रति समर्पित कर दो, यही सबसे बड़ा सहारा है, जो कोई भी इस सहारे को पहचान गया है वह डर, चिंता और दुखो से आजाद रहता है।

Quote 33: न तो यह शरीर तुम्हारा है और न ही तुम इस शरीर के मालिक हो, यह शरीर 5 तत्वों से बना है – आग, जल, वायु, पृथ्वी और आकाश, एक दिन यह शरीर इन्ही 5 तत्वों में विलीन हो जाएगा।

Quote 34: कोई भी इंसान जन्म से नहीं बल्कि अपने कर्मो से महान बनता है।

Quote 34: जब इंसान अपने काम में आनंद खोज लेते हैं तब वे पूर्णता प्राप्त करते है।

Quote 35: तुम क्यों व्यर्थ में चिंता करते हो ? तुम क्यों भयभीत होते हो ? कौन तुम्हे मार सकता है ? आत्मा न कभी जन्म लेती है और न ही इसे कोई मार सकता है, ये ही जीवन का अंतिम सत्य है।

दोस्तों आशा करते है, "BHAGWAT GEETA IN HINDI" का हमारा यह लेख आपको पसंद आया होगा। अगर पसंद आया हो, तो इसे दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें। 


Comments


Leave a Reply

Scroll to Top