religious-stories

श्री राम जी की आरती - SHRI RAM CHANDRA JI KI AARTI

ram_arti.jpg

॥ श्री राम स्तुतिः ॥

श्री राम चंद्र कृपालु भजमन हरण भाव भय दारुणम्।
नवकंज लोचन कंज मुखकर, कंज पद कन्जारुणम् ॥

कंदर्प अगणित अमित छवी नव नील नीरज सुन्दरम्।
पट्पीत मानहु तडित रूचि शुचि नौमी जनक सुतावरम् ॥

भजु दीन बंधु दिनेश दानव दैत्य वंश निकंदनम्।
रघुनंद आनंद कंद कौशल चंद दशरथ नन्दनम् ॥

सिर मुकुट कुण्डल तिलक चारु उदारू अंग विभूषणं।
आजानु भुज शर चाप धर संग्राम जित खर-धूषणं ॥

इति वदति तुलसीदास शंकर शेष मुनि मन रंजनम्।
मम ह्रदय कुंज निवास कुरु कामादी खल दल गंजनम् ॥

मनु जाहिं राचेऊ मिलिहि सो बरु सहज सुंदर सावरों।
करुना निधान सुजान सिलू सनेहू जानत रावरो ॥

एही भांती गौरी असीस सुनी सिय सहित हिय हरषी अली।
तुलसी भवानी पूजि पूनी पूनी मुदित मन मंदिर चली ॥

जानि गौरी अनुकूल सिय हिय हरषु न जाइ कहि।
मंजुल मंगल मूल वाम अंग फरकन लगे ॥

॥ दोहा ॥

जानि गौरी अनुकूल सिय हिय हरषु न जाइ कहि ।
मंजुल मंगल मूल बाम अंग फरकन लगे ॥

॥ आरती श्री राम चंद्र जी की ॥

आरती कीजै रामचन्द्र जी की।
हरि-हरि दुष्टदलन सीतापति जी की॥

पहली आरती पुष्पन की माला।
काली नाग नाथ लाये गोपाला॥

दूसरी आरती देवकी नन्दन।
भक्त उबारन कंस निकन्दन॥

तीसरी आरती त्रिभुवन मोहे।
रत्‍‌न सिंहासन सीता रामजी सोहे॥

चौथी आरती चहुं युग पूजा।
देव निरंजन स्वामी और न दूजा॥

पांचवीं आरती राम को भावे।
रामजी का यश नामदेव जी गावें॥

श्री राम जी की स्तुतिः करने बाले भक्तों का जीवन हमेशा खुशियों से भरा रहता है। भगवान् श्री राम की महिमा अपरम्पार है। वे अपने भक्तों पर हमेशा कृपा बनाये रखते हैं। भगवान् श्रीराम में आस्था रखने बाले सभी भक्तों के लिए हर रोज भगवान् श्रीराम की स्तुति के बाद आरती करनी चाहिए। नियमित रूप से श्रीराम की स्तुति करने से भगवान् श्रीराम की कृपा हमेशा उनके भक्तों पर बनी रहती है। 



Comments


Leave a Reply

Scroll to Top